आसमान में कितने कौवे | Akbar and Birbal short story in Hindi

Akbar and Birbal short story in Hindi – एक बार की बात है जब बादशाह अकबर और बीरबल दोनों साथ में महल के उद्यान में टहल रहे थे और राज्य के विभिन्न विषयो पर चर्चा कर रहे थे ।

टहलते हुए अचानक अकबर की नज़र ऊपर आसमान में उड़ते ढेर सारे कौवो पर पड़ती है और उन्हें देखकर अकबर के मन में बीरबल को छेड़ने की उत्सुकता जगती है ।

अकबर बीरबल से पूछते है “बीरबल, क्या तुम मुझे बता सकते हो कि हमारे राज्य में कितने कौवे है ?”

अकबर का सवाल सुनकर बीरबल आश्चर्य में पड़ जाता है और पूछता है “जहांपना, ये कैसा सवाल है और इसका कोई कैसे जवाब दे सकता है ?”

फिर अकबर हँसते हुए कहते है “बीरबल, ये कैसी बात कर रहे हो, मै तो तुम्हे महा चतुर मानता हूँ, महा ज्ञानी मनाता हूँ तुम तो किसी भी समस्या का हल निकाल सकते हो, किसी भी सवाल का जवाब दे सकते हो, मगर अब मुझे लग रहा है कि मै शायद तुम्हारे बारे में गलत सोचता हूँ ।”

अकबर की हंसी बीरबल ने पकड़ ली और समझ गया कि अकबर उसे छेड़ रहे है ।

फिर बीरबल कहता है “जहांपना, आप मुझे आज शाम तक का समय दीजिये, मै आपको आपके इस सवाल का जवाब ज़रूर दूंगा ।”

शाम होती है और बीरबल अकबर के दरबार में आता है ।

बीरबल को देखते ही अकबर उससे पूछते है “तो बताओ बीरबल क्या तुमने मेरे सवाल का जवाब ढूंढ लिया ?”

बीरबल कहता है “जी हुज़ूर, हमारे राज्य में कुल तीन हज़ार कौवे है ।”

अकबर आश्चर्य में पड़ जाते है और मन ही मन सोचते है “मैंने तो बीरबल को सिर्फ छेड़ने के लिए यह सवाल किया था, बीरबल तो सच में कौवो की गिनती कर आया है ।”

फिर अकबर कहते है “तुम इतने आश्वासन के साथ कैसे कह सकते हो, अगर तीन हज़ार से अधिक हुए तो ?”

बीरबल जवाब देता है “जहांपना, अगर तीन हज़ार से अधिक हुए तो समझ जाइएगा की कुछ कौवे अपने रिश्तेदारों से मिलने के लिए हमारे राज्य में आए है ।”

अकबर फिर पूछते है “अच्छा ये बताओ कि अगर कौवे तीन हज़ार से कम हुए तो ?”

बीरबल कहता है “जहांपना, तो फिर समझ जाइएगा कि कुछ कौवे अपने रिश्तेदारों से मिलने के लिए हमारे राज्य से बहार गए हुए है ।”

बीरबल का जवाब सुनकर अकबर और दरबार में बैठे सभी लोग ज़ोर से हंसने लगते है और अकबर कहते है “बीरबल, मैंने तो सिर्फ तुम्हे छेड़ने के लिए ही यह सवाल किया था लेकिन तुम तो सच में सवाल का जवाब ले आए, मान गए तुम्हारी बुद्धि और चतुराई को ।”

इस Akbar and Birbal short story in Hindi – आसमान में कितने कौवे कहानी से हमें यह सीख मिलती है कि अगर हम अपनी बुद्धि का सही तरीके से उपयोग करे तो किसी भी समस्या का हल निकाल सकते है ।

Also read – Hindi story with moral for class 6 – अपना-अपना मत

Also read – Hindi short story for class 4 – एक अच्छा पड़ोसी

Also read – Akbar Birbal stories in Hindi with moral – बीरबल की ज़िद

Also read – Hindi short story for class 3 – बहादुर लड़का

Also read – Akbar Birbal story in Hindi pdf – बीरबल और चालाकी

अगर आपको कहानी पसंद आई हो तो कृपया इसे अपने साथियो के साथ शेयर करे। धन्यवाद्।

Leave a Comment

error: Content is protected !!