पिंजरे का शेर – Akbar Birbal kahani in hindi

Akbar Birbal kahani in hindi – एक बार की बात है जब फारस का राजा और बादशाह अकबर बहुत अच्छे दोस्त थे। वे दोनों एक दूसरे को पहेलियां व चुटकुले भेजा करते थे। उन्हें एक दूसरे से उपहार प्राप्त करने में आनन्द प्राप्त होता था, जिससे उन्हें अपनी दोस्ती को बनाए रखने में मदद मिलती थी।

एक दिन बादशाह अकबर को फारस के राजा से एक बड़ा से पिंजरा और उसमें नकली शेर तथा एक पत्र प्राप्त हुआ। पत्र में लिखा था, “क्या आपके राज्य का कोई बुद्धिमान व्यक्ति बिना पिंजरा खोले शेर को बाहर निकाल सकता है। यदि पिंजरा खाली नहीं हुआ तो मुगल साम्राज्य, फारस साम्राज्य की संप्रभुता के अधीन आ जाएगा।

अकबर ने उत्सुकता भरी नजरों से एक के बाद एक सारे दरबारियों की ओर देखा और कहा, “मैं जानता हूं कि आप सभी अपने क्षेत्र में बुद्धिमान और विषेशज्ञ हैं। क्या कोई बिना पिंजरा खोले शेर को बाहर ला सकता है?”

उसने फिर अपने दरबारियों की ओर उम्मीद भरी नजरों से देखा। प्रत्येक दरबारी अपने-अपने आसन पर जमा हुआ बैठा था। सारे के सारे हैरान और परेशान थे, क्योंकि यह उनकी समझ से परे था। वे एक दूसरे को देख रहे थे। वे सब निराश थे।

उस दिन बीरबल दरबार में अनुपस्थित था। वह कहीं सरकारी कार्य से व्यस्त था। अकबर ने सोचा कि काश बीरबल इस समय यहां होता। उन्होनें बीरबल को बुलाने के लिए दूतों को आदेश दिया।

अगले दिन अकबर अपने सिहांसन पर आराम से बैठे हुए थे। बाकी आसनों पर दरबारी बैठे हुए थे। एक आसन बीरबल के न आने से खाली था। तभी बीरबल ने दरबार में प्रवेश किया। उसने झुककर बादशाह को अभिवादन किया और कहा, “जहांपनाह! मैं आपकी सेवा में उपस्थित हूं। मेरे लिए क्या आदेश है?”

अकबर ने संक्षेप में उसे पूरी बात बताई और फारस के राजा द्वारा भेजा गया पत्र उसके हाथ में रख दिया। बीरबल ने पत्र पढ़ा और पिंजरे की ओर नजर डाली।

बीरबल ने नौकर को बुलाया और एक लोहे की गर्म छड़ लाने को कहा। नौकर ने तुरन्त ही आदेश का पालन किया। बीरबल ने लोहे की गर्म छड़ से शेर को छुआ। शेर उस जगह से थोड़ा सा पिघल गया। वह तब तक उसे छूता रहा जब तक पूरा शेर पिघल नहीं गया।

फारस का दूत बीरबल की प्रतिभा से बहुत प्रभावित हुआ। अकबर ने बीरबल से पूछा, “तुमने कैसे जान लिया कि यह शेर लाख का बना हुआ है?”

“बीरबल ने उत्तर दिया, हुजूर! पत्र के अनुसार यह पिंजरा बिना खोले इसे खाली करना था। लेकिन यह नहीं कहा गया था कि शेर को बरकरार रखना है। मैंने बस यह सोचने की कोशिश की कि यह लाख का भी बना हो सकता है।”

फारस का दूत अपने राज्य वापस चला गया और उसके साथ बीरबल की बुद्धिमानी की गाथाएं फारस तक जा पहुंची।

Also read – अनैतिकता की मिठाई – Hindi kahani cartoon

Also read – चतुर बीरबल | Akbar Birbal Hindi short story

Also read – व्यापारी और उसका गधा – Story Hindi Cartoon

Also read – घमंडी चूहा | Panchatantra short stories in Hindi

Also read – पिता, पुत्र और गधे की सवारी – Panchatantra stories Hindi

Also read – शिकारी, राजा और तोता – Panchatantra stories in Hindi pdf

Also read – दाने दाने पर लिखा है खाने वाले का नाम – Hindi cartoon kahani

Also read – तेनाली रमन और राजा के घोड़े – Stories of Tenali Raman in Hindi

अगर आपको Akbar Birbal kahani in hindi – पिंजरे का शेर कहानी पसंद आई हो तो कृपया इसे अपने साथियो के साथ शेयर करे। धन्यवाद् ।

error: Content is protected !!