अन्धो की गिनती – Akbar Birbal ki kahani

Akbar Birbal ki kahani – एक बार की बात है जब बादशाह अकबर अपने कमरे में बैठकर अपने राज्य के सभी अंधे लोगो की सूची देख रहे थे । बीरबल उनके साथ था ।

अकबर ने कहा “बीरबल, हमारी बेगम राज्य के सभी अन्धो को कुछ दान में देना चाहती है, लेकिन मई देख रहा हूँ कि हमारे राज्य में अंधे व्यक्तियो की संख्या बहुत ही काम है ।”

बीरबल कहता है “लेकिन जहाँपना, अन्धो की संख्या तो उन व्यक्तियों से बहुत अधिक है जो देख सकते है ।”

अकबर ने कहा “यह तुम कैसे कह सकते हो बीरबल ? मेरे सैनिको ने यह सूची पूरी तरह से खोज-बीन करके बनाई है, वे गलत नहीं हो सकते है ।”

बीरबल कहता है “जहाँपना, आपके सिपाहियों ने उनका नाम सूची में नहीं लिखा है जिनकी आखे तो अच्छी है लेकिन वे देख नहीं सकते ।”

अकबर कहते है “बीरबल, मै अभी किसी तरह का मज़ाक नहीं सुनना चाहता ।”

फिर बीरबल ने कहा “जहाँपना, मै सही बोल रहा हूँ और ये बात आपको मै कुछ ही दिनों में साबित करके दिखा दूंगा ।”

अगले ही दिन बीरबल बाजार के बीच में चारपाई लेकर बैठ गया और उसे बनाने लग गया, आस पास गुज़र रहे सभी लोगो को उत्सुकता हुई की बीरबल क्या कर रहे है ।

फिर कुछ देर बार आस-पास के लोग बीरबल के पास आकर पूछने लगे “आप यह क्या कर रहे है बीरबल जी ?”

लोगो के प्रश्न का बीरबल ने कोई उत्तर नहीं दिया बल्कि अपने साथ जो कर्मचारी था उसे कहा “उन सभी लोगो का नाम लिखते जाओ जो यह प्रश्न पूछ रहे है ।”

धीरे-धीरे ये बात और भी लोगो तक फैलने लगी और लोग बीरबल के पास आकर यह पूछने लगे कि बीरबल आप क्या कर रहे है और बीरबल बिना कोई उत्तर दिए उन सभी लोगो के नाम लिखवाते गया ।

कुछ देर बाद ही यह बाद अकबर तक पहुंची और वे भो सोच में पड़ गए कि आखिर ये बीरबल बीच बाजार में कर क्या रहा है और वे भी वहा पहुंच गए जहा बीरबल चारपाई बुन रहा है ।

बीरबल के पास पहुंचते ही अकबर बीरबल से पूछते है “बीरबल, आखिर तुम ये कर क्या रहे हो ?”

बीरबल अकबर के प्र्श्न का उत्तर ना देते हुए कहता है “और यह हो गए तीन सौ ।”

फिर अकबर नाराज़ होते हुवे पूछते है “बीरबल, तुम मेरे प्रश्न का उत्तर क्यों नहीं देते कि तुम क्या कर रहे हो ?”

जहाँपना, मै यहाँ चारपाई बुन रहा हूँ और साथ ही साथ अंधे लोगो की सूची बना रहा हूँ । मुझसे आज तीन सौ लोगो ने पूछा कि मै क्या कर रहा हूँ जबकि दिन के इतने उजाले में सभी देख सकते है कि मै चारपाई बुन रहा हूँ ।

अकबर ने बीरबल से वह सूची मांगी और जब उन्होंने सूची देखी तो उन्हें बड़ा ही आश्चर्य हुआ क्योकि उस सूची में उनका भी नाम था ।

अकबर ने पूछा “बीरबल, तुमने इसमें मेरा नाम क्यों लिखा ?”

बीरबल ने कहा “क्योकि आप यह पूछने वाली अंतिम आदमी थे कि मै क्या कर रहा हूँ  ।”

बीरबल का जवाब सुनकर हमेशा की तरह अकबर के पास बोलने के लिए कुछ भी नहीं था ।

Also read – Hindi story with moral for class 6 – अपना-अपना मत

Also read – Hindi short story for class 4 – एक अच्छा पड़ोसी

Also read – Akbar Birbal stories in Hindi with moral – बीरबल की ज़िद

Also read – Hindi short story for class 3 – बहादुर लड़का

Also read – Akbar Birbal story in Hindi pdf – बीरबल और चालाकी

अगर आपको Akbar Birbal ki kahani – अन्धो की गिनती कहानी पसंद आई हो तो कृपया इसे अपने साथियो के साथ शेयर करे। धन्यवाद्।

Leave a Comment

error: Content is protected !!