पत्नियों का डर – Akbar or Birbal ki kahani

Akbar or Birbal ki kahani – एक बार अकबर और बीरबल किसी बात को लेकर बहस कर रहें थे, तभी बीरबल ने अकबर से कहा कि महाराज ज्यादा तर पुरुष जोरू के गुलाम ही होतें हैं और लगभग सभी पति अपनी पत्नियों से डरकर रहतें हैं ।

बीरबल की यह बात अकबर को बिल्कुल भी पसंद नहीं आयी और अकबर ने इस बात का विरोध किया, लेकिन बीरबल ने फिर से यही कहा कि ये बात सच हैं महाराज कि पति पत्नी के लगभग गुलाम ही होते है ।

तभी राजा अकबर ने कहा कि तो ठीक है बीरबल तुम ये बात सिद्ध करके दिखाओं कि पति पत्नी का गुलाम होता हैं और वो उससे डरता भी हैं, तभी बीरबल ने पुरे नगर में ये ऐलान करवा दिया कि जो भी पति अपनी पत्नी से थोड़ा भी डरता हैं, उसे महाराज अकबर के महल में एक मुर्गी जमा करवानी होगी ।

अब क्या था लगभग सभी पति अपनी पत्नी से तो डरतें ही हैं, और सभी लोग राजा के महल में मुर्गिया देकर आने लगें और अब महल में बहुत सारी मुर्गिया जमा हो गयी ।

तभी बीरबल राजा के पास पहुँचे और बोले कि महाराज महल में सैंकड़ो मुर्गीयां इक्कट्ठी हो चुकी हैं, आप चाहें तो मुर्गी खाना खोल सकतें हैं और अब मेरी बात भी साबित हो चुकी हैं कि हर पति पत्नी से डरता हैं ।

लेकिन महाराज अकबर ने उसकी बात नहीं मानी तो बीरबल कहा कम था उसने अपनी बात को सिद्ध करने के लिए एक नया उपाय निकाला ।

अगले दिन बीरबल राजा के पास गए और बोले कि महाराज मैंने सुना हैं कि पड़ोस के राज्य में एक बहुत ही खूबसूरत राजकुमारी रहती हैं अगर आप कहें तो उस सुंदर कन्या से मैं आपके रिश्ते की बात पक्की कर दूं ?

ये सुनते ही राजा चोंक उठे और बोले कि बीरबल कैसी बात कर रहें हो, थोड़ा धीरे बोलो

मेरी पहले ही दो महारानियाँ मौजूद हैं अगर उन्हें इस बात की भनक भी पड़ गयी तो मेरी खेर नहीं ।

इतना सुनतें ही बीरबल ने तपाक से जवाब दिया कि इसका मतलब आप भी अपनी पत्नी से खूब डरते हैं महाराज ।

अब आप भी मानते हैं न कि हर पति थोड़ा बहुत तो पत्नियों से डरता ही हैं और अब मैं अपनी बात को पूरी तरह से सिद्ध कर चुका हूँ और अब आप भी महल में दो मुर्गियां जमा करवा दीजिएगा ।

बीरबल की बात सुनकर महाराज अकबर भी शर्मा गए और फिर हँसते हुए बोले,

वाकई में तुमनें साबित कर दिया कि लगभग हर पति पत्नी से थोड़ा बहुत तो डरता ही हैं ।

Also read – अनैतिकता की मिठाई – Hindi kahani cartoon

Also read – चतुर बीरबल | Akbar Birbal Hindi short story

Also read – व्यापारी और उसका गधा – Story Hindi Cartoon

Also read – घमंडी चूहा | Panchatantra short stories in Hindi

Also read – पिता, पुत्र और गधे की सवारी – Panchatantra stories Hindi

Also read – शिकारी, राजा और तोता – Panchatantra stories in Hindi pdf

Also read – दाने दाने पर लिखा है खाने वाले का नाम – Hindi cartoon kahani

Also read – तेनाली रमन और राजा के घोड़े – Stories of Tenali Raman in Hindi

अगर आपको Akbar or Birbal ki kahani – पत्नियों का डर कहानी पसंद आई हो तो कृपया इसे अपने साथियो के साथ शेयर करे। धन्यवाद् ।

error: Content is protected !!