बीरबल का जवाब – Akbar vs Birbal story in Hindi

Akbar vs Birbal story in Hindi – एक बार की बात है, जब बादशाह अकबर की राजसभा में एक ज्ञानी पंडित आए हुए थे। वह कुछ सवालों के जवाब बादशाह से जानना चाहते थे, लेकिन बादशाह के लिए उनके सवालों का जवाब देना मुश्किल हो गया था।

इसलिए, उन्होंने पंडित जी के सवालों के जवाब देने के लिए बीरबल को आगे कर दिया। बीरबल की चतुराई से सभी वाकिफ थे और सभी को उम्मीद थी कि बीरबल पंडित जी के हर सवाल का जवाब आसानी से दे सकते हैं।

पंडित जी ने बीरबल से कहा “मैं तुम्हें दो विकल्प देता हूं, एक या तो तुम मुझे मेरे 100 आसान से सवाल के जवाब दो या फिर मेरे एक मुश्किल सवाल का जवाब दो।”

बीरबल ने सोच-विचार करने के बाद कहा कि मैं आपके एक मुश्किल सवाल का जवाब देना चाहता हूं। फिर पंडित जी ने बीरबल से पूछा, तो बताओ कि मुर्गी पहले आई या अंडा ?

बीरबल ने तुरंत पंडित जी को जवाब दिया कि मुर्गी पहले आई।

फिर पंडित जी ने बीरबल से पूछा कि तुम इतनी आसानी से कैसे बोल सकते हो कि मुर्गी पहले आई ?

इस पर बीरबल ने पंडित से कहा कि यह आपका दूसरा सवाल है,औ र मुझे आपके एक सवाल का ही जवाब देना था।

ऐसे में पंडित जी बीरबल के सामने कुछ बोल नहीं पाए और बिना कुछ बोले ही दरबार से चले गए। बीरबल की  चतुराई और अक्लमंदी को देखकर अकबर हमेशा की तरह ही इस बार भी बहुत खुश हुए।

इस Akbar vs Birbal story in Hindi – बीरबल का जवाब कहानी से हमे यह सीख मिलती है कि सही तरह से दिमाग का उपयोग करने और संयम रखने से हर सवाल का जवाब और हर समस्या का हल मिल सकता है।

Also read – लोमड़ी की चालाकी | Hindi story for class 1

Also read – दुखी मछली | Short story about friendship

Also read – चतुर बीरबल | Akbar Birbal Hindi short story

Also read – एक जासूस मंत्री | Stories for kids pdf included

Also read – चार बहानेबाज़ दोस्त | Friendship story in Hindi

Also read – घमंडी चूहा | Panchatantra short stories in Hindi

Also read – जादुई संदूक | Hindi stories with moral for class 5

Also read – मछली की चतुराई | Stories for kids online in Hindi

Also read – सकारात्मक सोच | Very short moral stories in Hindi

अगर आपको कहानी पसंद आई हो तो कृपया इसे अपने साथियो के साथ शेयर करे। धन्यवाद्

error: Content is protected !!