ईमानदार बच्ची की कहानी | Any Hindi story with moral

Any Hindi story with moral – एक समय की बात है जब एक राज्य में अकाल पड़ा हुआ था, राज्य के सारे खेत एकदम सूख गए थे, जिसके कारण राज्य को बहुत नुकसान पहुँचता है।

फिर राज्य के राजा के द्वारा एक आदेश दिया जाता है कि राज्य के सारे बच्चो को राजा की तरफ से खाने के लिए रोटी दी जाएगी ।

अगले दिन राज्य के सारे बच्चे महल में एक कतार में खड़े हो जाते है जहां उन्हें एक-एक करके रोटी दी जाती है ।

उस कतार में खड़े बच्चो में बार-बार लड़ाई होती थी क्योकि कभी किसी को बड़ी रोटी मिलती तो कभी किसी को छोटी रोटी मिलती और जिस दिन जिस बच्चे को छोटी रोटी मिलती वह बच्चा गुस्से में आकर दुसरे बच्चो से झगड़ा करता ।

ऐसा तीन से चार दिन लगातार चलता रहा लेकिन इसी बीच कतार में एक बच्ची खड़ी होती है जिसे रोज़ छोटी रोटी ही मिलती लेकिन उसे कभी कोई परेशानी नहीं होती ।

उस बच्ची के सारे दोस्त उसे कहते ही तुम भी अपना गुस्सा दिखाया करो क्योकि तुम्हे तो रोज़ ही छोटी रोटी मिल रही है ।

इसपर बच्ची जवाब देते हुए कहती है कि मुझे कभी इस बात पर गुस्सा आता ही नहीं है क्योकि मै इस बात से ही खुश हूँ कि मुझे इतने ख़राब समय में भी खाना मिल रहा है ।

एक दिन जब वह बच्ची अपने घर में अपने माता पिता के साथ बैठकर रोटी खा रही होती है तो उसे उस छोटी सी रोटी में एक सोने का सिक्का मिलता है ।

उस सिक्के को देखकर बच्ची हैरान हो जाती है और अपने पिता को दिखती है ।

बच्ची के माता पिता दोनों ही बच्ची को कहते है कि शायद ये सिक्का रोटी बनाते समय गलती से इसमें गिर गया होगा और इस सिक्के को राजा जी को वापस कर देना चाहिए ।

बच्ची अपने माता-पिता की बात मानते हुए अगले दिन ही राजा के महल में जाती है और वहा जाकर सारी बात वहा के एक सिपाही को बताती है  ।

सिपाही बच्ची को तुरंत राजा के पास ले कर जाता है और राजा को सारी बात बताता है।

राजा बच्ची की सच्चाई और ईमानदारी से बहुत ही खुश होता है और क्योकि राजा की कोई संतान नहीं होती तो वह उस बच्ची को गोद लेकर अपनी संतान घोषित कर देता है ।

साथ ही साथ उस बच्ची के माता-पिता को भी अपने राज महल में ही रहने की जगह देता है और अंदर ही नौकरी दे देता है ।

इस Any Hindi story with moral ईमानदार बच्ची की कहानी से हमें ये सीख मिलती है कि हमें हमेशा सच बोलता चाहिए और अपने जीवन में  ईमानदार रहना चाहिए क्योकि हमारे ऐसे आचरण से हमारे हर कार्य का परिणाम हमेशा अच्छा ही होता है ।

Also read – Moral stories in Hindi in short – एक लालची बिल्ले की कहानी

Also read – Short moral stories in Hindi – एक चालाक सियार की कहानी

Also read – Short story in Hindi for class 1st – कोयल और चींटी कि कहानी

अगर आपको कहानी पसंद आई हो तो कृपया इसे अपने साथियो के साथ शेयर करे । धन्यवाद् ।

Leave a Comment

error: Content is protected !!