बदमाश लोमड़ी | Hindi short story pdf free download

Hindi short story pdf free download – एक बार की बात है जब जंगल में एक बदमाश लोमड़ी रहती थी । लोमड़ी हमेशा सभी जानवरो को परेशान करती थी और हमेशा उनके साथ मज़ाक करती थी । एक दिन लोमड़ी नीरस होकर बैठी हुए थी और मन ही मन सोच रही थी  कि आज कोई जानवर नहीं मिला जिसे वह बेवकूफ बना सके ।

फिर लोमड़ी को लम्बी चोंच वाला सारस पक्षी दीखता है और लोमड़ी मन ही मन सोचती है “मुझे आज बेवकूफ बनाने के लिए एक पक्षी मिल गया ।”

लोमड़ी सारस पक्षी के पास जाती है और उसे कहती है “और भाई, कैसे हो, बड़े दिनों बाद दिख रहे हो ।”

सारस पक्षी जवाब देता है “हां, मै कुछ दिनों के लिए थोड़ा बाहर गया था, आज ही वापस आया हूँ ।”

लोमड़ी कहती है “चलो फिर तुम मेरे यहाँ खाने पर चलो, मैंने आज बहुत बढ़िया खाना बनाया है।”

सारस पक्षी लोमड़ी की बात मान लेता है और उसके साथ उसके घर खाने पर चला जाता है ।

लोमड़ी बदमाशी करते हुए एक थाली में खाना लेकर आती है और सारस पक्षी के सामने रखकर कहती है कि वह खाना शुरू करे ।

लोमड़ी को पता था कि सारस पक्षी की चोंच लम्बी है और वह थाली में खाना नहीं खा सकता फिर भी जानबूझकर उसने ऐसा किया ।

सारस पक्षी बहुत कोशिश करता है लेकिन वह थोड़ा सा भी खाना नहीं खा पाता है जिसे देखकर लोमड़ी उसे चिढ़ाते हुए पूछती है “अरे, तुमने तो कुछ खाया ही नहीं ?”

सारस पक्षी लोमड़ी की बदमाशी समझ जाता है और उसे कहता है “मेरा पेट खाने की खुशबु से ही भर गया और अब मेरा कर्त्तव्य बनता है कि मै भी तुम्हे ऐसा ही स्वादिष्ठ खाना खिलाऊ तो आज रात तुम भी मेरे घर आओ खाने पर ।”

ऐसा कहकर सारस पक्षी वहां से चला जाता है और उसी रात लोमड़ी सारस पक्षी के घर खाने पर आती है ।

सारस पक्षी लोमड़ी के लिए एक ऊँचे मुँह वाले बर्तन में खाना लेकर आता है और लोमड़ी से आग्रह करता है कि वह खाना शुरू करे ।

लोमड़ी खाने की बहुत कोशिश करती है लेकिन उस ऊँचे मुँह वाले बर्तन के अंदर लोमड़ी का मुँह जाता ही नहीं है और वहीं पर सारस पक्षी अपना पूरा खाना खतम कर लेता है और हँसते हुए वही सवाल लोमड़ी से पूछता है जो लोमड़ी ने उससे पूछा था “अरे, तुम खा नहीं रही हो, तुम्हारा भी खाने की खुशबु से ही पेट भर गया क्या ।”

लोमड़ी समझ जाती है कि सारस पक्षी ने ऐसा क्यों किया और वह उससे माफ़ी मंगाते हुए कहती है “कृपया मुझे माफ़ कर दो, अब मै कभी किसी के साथ ऐसा मज़ाक नहीं करुँगी ।”

इस Hindi short story pdf free download – बदमाश लोमड़ी की कहानी से हमें यह सीख मिलती है कि अगर हम कभी भी किसी के साथ बुरा करेंगे तो हमरा साथ भी बुरा होगा ही, इसीलिए हमें हमेशा अपना व्यवहार अच्छा रखना चाहिए ।

Download PDF here

Also read – Moral Hindi short story – अच्छे कर्म का फल

Also read – Hindi short story for kids – बदक और आज्ञाकारी बच्चे

Also read – Moral stories in Hindi for kids – चींटी और घमंडी हाथी

Also read – Small story for kids in Hindi – तीन मछलियों की कहानी

Also read – Short story in Hindi with moral values – ईमानदार गाय

अगर आपको कहानी पसंद आई हो तो कृपया इसे अपने साथियो के साथ शेयर करे। धन्यवाद्।

Leave a Comment

error: Content is protected !!