परिवार में बेटी का महत्व – Real life inspirational stories in Hindi

Real life inspirational stories in Hindi – एक बार की बात है जब एक गांव में एक माया नाम की स्त्री रहती थी। उसका भरापूरा परिवार था, धन-धान्य की कोई कमी नहीं थी।

माया भी ख़ुश ही थी अपने घर-संसार में, लेकिन कभी-कभी अचानक बेचैन हो उठती। इसका कारण वह ख़ुद भी नहीं जानती थी।

पति उससे हमेशा पूछता कि उसे क्या परेशानी है। पर वह इस बात का कोई उत्तर न दे पाती। तीनों ही बच्चे बड़े हो गए थे, तीनों ही किशोरावस्था में थे।

अब उनके रुचि के विषय अपने पिता के विचारों से ज़्यादा मेल खाते। वे ज़्यादातर समय अपने पिता, टीवी और दोस्तों के साथ बिताते।

माया चाहती थी कि उसके तीनों बेटे उसके साथ कुछ समय बिताएं, पर उनकी रुचियां कुछ अलग थीं, अब वे तीनों ही बच्चे नहीं रह गए थे, धीरे-धीरे वे पुरुष बनते जा रहे थे।

एक सुबह माया ने अपने पति से कहा, क्या मेरी ख़ुशी के लिए आप कुछ करेंगे ?

पति ने कहा, हां-हां क्यों नहीं।

माया बोली, मै एक बेटी गोद लेना चाहती हूं और इस्पे आप सवाल-जवाब मत करिएगा।

पति को माया की बात सुनकर आश्चर्य हुआ, पर उंसने कुछ नहीं कहा।

फिर माया ने तीनों बच्चों के सामने भी यह प्रस्ताव रखा, किसी ने कोई आपत्ति तो नहीं की, पर सबके मन में  सवाल था ‘क्यों?

जल्द ही माया ने डेढ़ महीने की एक प्यारी सी बच्ची अनाथ आश्रम से गोद ले ली। तीन बार माँ बनने का सुख भोग लेने के बाद भी आज उसमें वात्सल्य की कोई कमी नहीं थी।

बच्ची के आने की ख़ुशी में माया और उसके पति ने एक समारोह का आयोजन किया। सब मेहमानों को संबोधित करते हुए माया बोली, मैं आज अपने परिवार और पूरे समाज के मन में उठे ‘क्यों’ का जवाब देना चाहती हूं।

मेरे ख़याल से हर घर में एक बेटी का होना बहुत ही आवश्यक है। बेटी के स्नेह और अपनेपन की शीतलता ही घर के सभी लोगों को एक-दूसरे से बांधे रखती है।

तीन बेटे होने के बावजूद मैं संतुष्ट नहीं थी। मैं स्वयं की परछाईं इनमें से किसी में नहीं ढूंढ पाती। बेटी शक्ति है, सृजन का स्रोत है ।

मझे दुख ही नहीं, पीड़ा भी होती है, जब मैं देखती हूं कि किसी स्त्री ने अपने भ्रूण की हत्या बेटी होने के कारण कर दी। मैं समझती हूं कि मेरे पति का वंश ज़रूर मेरे ये तीनों बेटे बढ़ाएंगे, पर मेरे मातृत्व’ का वंश तो एक बेटी ही बढ़ा सकती है।

Also read – चिड़िया का घोसला – Cartoon kahani in Hindi

Also read -शहज़ादे की बुरी आदत – Akbar Birbal Hindi kahani

Also read – विजय नगर में चोरी – Story of Tenali Raman in Hindi

Also read – इनाम का आधा हिस्सा – Akbar Birbal Hindi kahaniya

Also read -भिखारी की सीख – Small Panchatantra stories in Hindi

Also read -मुसाफिर और चालाक गाड़ीवाला – Hindi kahaniya cartoon

Also read – बीरबल का मनोरंजक उदहारण – Akbar and Birbal Hindi story

Also read – आश्रम का उत्तराधिकारी – Panchatantra stories for kids in Hindi

अगर आपको Real life inspirational stories in Hindi – परिवार में बेटी का महत्व कहानी पसंद आई हो तो कृपया इसे अपने साथियो के साथ शेयर करे। धन्यवाद् ।