अपनी किस्मत | Short story in Hindi for class 10

Short story in Hindi for class 10 – एक बार कि बात है जब एक गांव में एक श्याम नाम का ठेकेदार रहता था । श्याम घर बनाने का काम करता था और अपने काम में बड़ा ही ईमानदार था ।

श्याम के काम को बड़े-बड़े व्यापारी बहुत पसंद करते थे जिस कारण उसे लगातार काम मिलता रहता था । इन्ही व्यापारी में से एक व्यापारी के साथ श्याम लगातार काम करता और उसे लगातार घर बनाकर देता ।

सालो साल काम करने के पश्चात् श्याम ने सोचा कि अब उसे काम छोड़ देना चाहिए और अपने परिवार के साथ समय बिताना चाहिए ।

इस बात को लेकर वह उस व्यापारी के पास जाता है और कहता है “सेठ जी, यह मेरा आखिरी काम है और इसके बाद मै आपके लिए और घर नहीं बना पाउँगा क्योकि अब मै काम छोड़ रहा हूँ।”

व्यापारी श्याम से कहता है “अरे श्याम, मुझे बड़ा दुःख है कि तुम काम छोड़ रहे हो लेकिन इस बात की ख़ुशी भी है कि हमने इतने साल साथ काम किया, लेकिन मै तुमसे आग्रह करूँगा कि मेरे लिए बस एक आखरी घर और  बना दो  ।”

श्याम व्यापारी की बात मान जाता है और एक आखरी घर बनाने के लिए तैयार हो जाता है ।

श्याम के काम करने का तरीका यह था कि वह पहले अपने पैसो से घर बनाता फिर उसे व्यापारियों को बेच देता, फिर व्यापरी उन घरो को अपने ग्राहकों को बेचते ।

श्याम की खासियत थी कि वह अपने बनाए घरो में हमेशा अच्छे सामान उपयोग करता जिससे सारे घर एकदम मजबूत बनते और उसकी इसी ईमानदारी के लिए व्यापारी उसे पसंद भी करते ।

लेकिन इस बार श्याम का मन डगमगा जाता है और वह सोचता है “यह तो मेरा आखरी काम है, यह जैसा भी बने मुझे क्या करना है, मै इसमें सस्ते और ख़राब सामान उपयोग कर लेता हूँ, किसे मालूम पड़ेगा ।”

ऐसा सोचकर श्याम अपने बनाए आखरी घर को बहार से सुन्दर और अंदर से कमज़ोर बना देता है ।

घर पूरा बनाने के बाद श्याम व्यापारी के पास जाता है और उसे कहता है “सेठ जी, ये लीजिये घर की चाबी, मैने आपका आखरी काम भी कर दिया ।”

व्यापारी श्याम को धन्यवाद् करता है और कहता है “श्याम ये लो तुम्हारे सारे पैसे जो तुमने इस घर में लगाए है और ये लो इस घर की चाबी।”

श्याम समझ नहीं पाता और कहता है “अरे सेठ जी, ये क्या कर रहे है, चाबी मुझे वापस क्यों दे रहे है ?”

व्यापारी कहता है “श्याम, तुमने मेरे लिए इतने सारे घर बनाए है जिससे मैंने ढेर सारा पैसा कमाया है तो मेरी तरफ से तुम्हारे लिए ये घर उपहार है ।”

श्याम घर की चाबी ले लेता है और व्यापारी को धन्यवाद् कहता है और मन ही मन सोचता है “अगर मुझे मालूम होता कि मै अपने लिए ही घर बना रहा हूँ तो मै इसे अच्छे से और मजबूती से बनाता लेकिन मैंने अपने हाथो से ही अपने लिए एक कमज़ोर घर बना लिया ।”

इस Short story in Hindi for class 10 – अपनी किस्मत कहानी से हमें यह सीख मिलती है कि हम अपनी किस्मत अपने हाथो से  ही बनाते है इसलिए हमें हमेशा अपना काम ईमानदारी से करना चाहिए ।

Also read – Moral Hindi short story – अच्छे कर्म का फल

Also read – Hindi short story for kids – बदक और आज्ञाकारी बच्चे

Also read – Moral stories in Hindi for kids – चींटी और घमंडी हाथी

Also read – Small story for kids in Hindi – तीन मछलियों की कहानी

Also read – Short story in Hindi with moral values – ईमानदार गाय

अगर आपको कहानी पसंद आई हो तो कृपया इसे अपने साथियो के साथ शेयर करे। धन्यवाद्।

error: Content is protected !!